What is Digital Signature in Network Security in Hindi || Digital Signature Notes in Hindi



Digital Signature ( डिजिटल सिग्नेचर क्या है ?)


डिजिटल सिग्नेचर एक Mathematical Scheme है | जिनका उपयोग डिजिटल Message या  Document के Authentication को Verify करने के लिए किया जाता है | Digital Signature में Asymmetric key Cryptography का प्रयोग किया जाता है |


Uses of Digital Signature ( डिजिटल सिग्नेचर का उपयोग )


इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट को, इन्टरनेट के माध्यम से एक जगह से दुसरे जगह में ट्रांसमिशन करने के लिए किया जाता है | ज्यादातर इनका प्रयोग E-commerce और E-Governance में किया जाता है | डिजिटल सिग्नेचर किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट को Authenticity, Integrity और Non repudiation प्रदान करता है |

Ø Authenticity: इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट को Verify करने के साथ साथ डॉक्यूमेंट भेजने वाले Sender को भी Verify करता है |


Ø Message Integrity: इलेक्ट्रॉनिक मैसेज Receiver के पास सही रूप में और पूरा (correct & Complete ) प्राप्त करें |

Ø Non-repudiation : Sender जब डॉक्यूमेंट को Send करता है और Receiver उसे प्राप्त कर लेता  है | इसके बाद किसी कारण से Sender डॉक्यूमेंट को identify करने से इनकार नहीं कर सकता है |

Digital Signature Process ( डिजिटल सिग्नेचर प्रक्रिया )


नेटवर्क में , जब भी किसी Sender को डिजिटल सिग्नेचर के साथ डॉक्यूमेंट या मैसेज भेजना होता है | 

Digital Signature Approaches:


Digital Signature को दो Approaches में Divide किया गया है |

1.  RSA Approach
2. 
DSS Approach
 

दोनों Approaches में HASH Algorithm का प्रयोग किया जाता है |




यह भी पढ़ें:-


What is Digital Signature in Network Security in Hindi || Digital Signature Notes in Hindi What is Digital Signature in Network Security in Hindi || Digital Signature Notes in Hindi Reviewed by computervidya on December 07, 2018 Rating: 5

2 comments:

Facebook

Powered by Blogger.